Friday, March 11, 2022

दया का अधिकार (एक संस्मरण)

उस समय मैं पाँचवी कक्षा में पढ़ती थी। सरकारी स्कूल था, हिंदी माध्यम का। स्कूल में एक बड़ा-सा थालनुमा घंटा था, जिसे बड़े-से हथौड़ेनुमा डंडे से बजा कर स्कूल की चपरासी दया बच्चों को स्कूल की समय-सारिणी का ज्ञान कराती थी। 

अधिकतर बच्चों के कान शिक्षिका के पढ़ाने पर कम और घंटे की ध्वनि की ओर अधिक लगे रहते थे, विशेषकर आधी छुट्टी के पहले और छुट्टी के पहले वाले पीरियड में। 

स्कूल की चपरासी दया इस कार्य को पूरी कर्तव्यनिष्ठा और तत्परता से अंजाम देती थी। क्या मजाल कि पाँच मिनट पहले छुट्टी का घंटा बजा दे।

उस समय शिक्षक और माता-पिता बच्चों की सार्वजनिक बेइज्जती और पिटाई को अपना अधिकार समझते थे और बच्चों में सुधार के लिए जरूरी भी। 

जैसे - अगर किसी बच्चे के कम अंक आए या उसने कोई बदमाशी की, तो माँ जब तक पड़ोस की चाची/ बुआ/ मौसी को बुलाकर उनके सामने सारा कच्चा चिट्ठा ना बखान कर दें और वे चाची/ बुआ/ मौसी पूरे अधिकार सहित बच्चे के कान ना उमेठ दें या एक लंबा चौड़ा भाषण सुना ना दें तब तक माँ के कलेजे में ठंडक ना पड़ती।

 इसी तरह टीचर भी जब तक बच्चों के गलत उत्तरों को पूरी कक्षा के सामने पढ़कर ना सुना दें, तब तक उत्तर पुस्तिकाओं का बंडल कक्षा से रवाना नहीं किया जाता था।

एक बार नागरिक शास्त्र में प्रश्न आया - 'दया का अधिकार क्या है और यह अधिकार किसे होता है ?' 

जवाब में एक बच्चे ने लिखा -  

'दया का अधिकार है, स्कूल का घंटा बजाकर बच्चों को छुट्टी देना । यह अधिकार हमारे स्कूल की चपरासी दया को होता है।'

जाहिर सी बात है कि गुरुदेव ने इस अधिकार को सार्वजनिक रूप से कक्षा में ही घोषित नहीं किया बल्कि मॉनिटर को भेजकर दया को कक्षा में बुलवाया और उसे भी उसके अधिकार से परिचित करा दिया।

इस नई सूचना से दया बड़ी प्रसन्न हुई और खी - खी कर हँस पड़ी। बेचारा बच्चा बिना छड़ी की इस मार से शर्म से पानी-पानी हो रहा था।

गोस्वामी तुलसीदासजी सुंदरकांड में कह गए हैं - 

"भय बिनु होंहिं ना प्रीति" 

हमारे शालेय जीवन में हमारे शिक्षक शायद इसी कथन/उक्ति को सार्थक करते हुए, विद्यार्थियों के मन में भय का ऐसा बीज बोते थे कि उस बीज से विद्यार्थियों के जीवन में अनुशासन की, सदाचार की और गुरुजनों के प्रति सम्मानमिश्रित प्रेम की फसल लहलहाती थी ।

आज वह जमाना नहीं रहा जब शिक्षकों के सामने बच्चों की आँखें नहीं उठती थी। आज तो मेरी समझ में दया का अधिकार विद्यार्थियों को है। वे चाहें तो अपने शिक्षक और माता-पिता पर दया करके पढ़ाई पर और अनुशासन पर ध्यान दें और ना चाहें तो ना दें। 


      

14 comments:

  1. बहुत रोचक संस्मरण !
    अपने 36 साल से भी अधिक अध्यापन के अनुभव के आधार पर मैं आपकी इस बात से पूर्णतया सहमत हूँ कि दया का छुट्टी करने के लिए घंटा बजाने का अधिकार और गुरु जी को बिना क्लास लिए घर भेजने का अधिकार अब विद्यार्थियों के पास है.
    रही विद्यार्थियों के अनुशासन की बात तो अब ऐसे शब्दों का चलन व्यवहार में ही नहीं रह गया है.

    ReplyDelete
  2. वाह! बहुत रोचक सन्समरण ! ज़माना वाक़ई बदल गया है, अब शिक्षक बच्चों के प्रकोप से भय खाते हैं

    ReplyDelete
  3. हा हा हा... दी रोचक संस्मरण पढ़कर बहुत सारी बातें याद आ गयी स्कूल की ...। मेरी माँ भी शिक्षिका थी और उनकी.व्यस्तता की वजह से हम दादी की निगरानी में रहते थे...मेरी दादी हमारे स्कूल के टीचर को स्पेश्यली जाकर कहती थी कि "मास्साब अगर गुड़िया ठीक से न पढे तो पूरा क्लास के सामने पीटियेगा और फिर हमसे बोलियेगा तो हम डंडा पहुँचा देंगे।"
    अरे दी आज के पाँच साल के बच्चों को भी बात बात पर इंसल्ट फील होता है...छोटी छोटी बात में डिप्रेशन हो जाता है... अनुशासन कुत नहीं है सिर्फ़ अपनी सहूलियत से जीवन जीने वाली सुविधाभोगी पीढ़ी तैयार हो रही ...पता नहीं किस तरह के भविष्य का निर्माण हो रहा।

    प्रणाम दी
    सादर।

    ReplyDelete
  4. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (१२ -०३ -२०२२ ) को
    'भरी दोपहरी में नंगे पाँवों तपती रेत...'(चर्चा अंक-४३६७)
    पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
  5. वाह !
    हास्य मिश्रित बहुत रोचक संस्मरण मीना जी ! सच में हर स्कूल में यह अधिकार किसी न किसी दया का ही होता
    है । अति सुन्दर ।

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन लेखन।हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर संस्मरण जिसके माध्यम से आपने तब और अब के फ़र्क को बखूबी उकेरा है।
    शिक्षक,शिक्षा शिक्षार्थी सब कुछ बदल गया है और दया के अधिकार भी।
    प्रेरक रोचक संस्मरण।

    ReplyDelete
  8. वे चाहें तो अपने शिक्षक और माता-पिता पर दया करके पढ़ाई पर और अनुशासन पर ध्यान दें और ना चाहें तो ना दें।

    हाँ सही कहा आपने अब माता पिता और शिक्षक ही दया के पात्र बन गए है। बेहतरीन कटाक्ष ,सादर नमन मीना जी

    ReplyDelete
  9. मुझे एक बार मेरे विद्यार्थी ने बताया है कि उसके नहीं पढ़ने से उसके माँ पिता का नुकसान होता है (उसका नहीं). तात्पर्य तो यही हुआ ना कि पढ़कर वह माता पिता पर एहसान कर रहा है न!
    आश्चर्य की बात तो यह है कि उसने यही बात मेरे सामने अपनी माता से भी कहा। ऐसा है जमाना और उसमें दया का अधिकार।

    ReplyDelete
  10. सार्थक लेखन
    सुंदर संस्मरण

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन संस्मरण

    ReplyDelete
  12. इन पटलों को प्रतिक्रिया तकही सीमित रखें तो उचित होगा। अपनी रचनाओं का विज्ञापन के लिए आपं अन्य तरीके अपनाएँ तो बेहतर होगा।
    यह ब्लॉग किसी सर का नहीं श्रीमती मीना शर्मा जी का है।

    ReplyDelete
  13. बहुत ही रोचक संस्मरण मीनाजी सही कहा पहले माता पिता और टीचर सार्वजनिक सजा देकर बच्चों को दण्डित करते थे
    इन्सल्ट और डिप्रेशन जैसे शब्द तो जन्मे भी न थे तब तक।
    आज हालात बदल गये अब तो शिक्षक और माता पिता हीसजा भुगत रहे हैं बच्चों से।

    ReplyDelete
  14. तब और अब में बड़ा फर्क आ गया है। अब तो हम बच्चों को बताते हैं तो वे सुनना तक पसंद नहीं करते। कई यादें ताज़ी कर दी आपने स्कूल के दिनों की

    ReplyDelete

विशिष्ट पोस्ट

दया का अधिकार (एक संस्मरण)

उस समय मैं पाँचवी कक्षा में पढ़ती थी। सरकारी स्कूल था, हिंदी माध्यम का। स्कूल में एक बड़ा-सा थालनुमा घंटा था, जिसे बड़े-से हथौड़ेनुमा डंडे स...

Popular posts from this blog